Bihar Current Affairs in Hindi PDF Download - बिहार के बारे में पूरी जानकारी

You must be aware that whenever we prepare for the exam with free competition, many questions are asked from Bihar Current Affairs in Hindi, that's why I present to you the current affairs of Bihar, which is made up of many questions. Give complete information about Bihar Current Affairs, you do not need to come to Kannauj to find Bihar Current Affairs, you will get everything in this post from Current Affairs of Bihar.

 Bihar Current Affairs in Hindi PDF Download

Bihar Current Affairs 2021 in Hindi PDF Download

बिहार एक परिचय

बिहार की स्थापना - 1 अप्रैल 1912

राजधानी – पटना

उच्च न्यायालय-पटना

राजकीय भाषा - हिंदी

द्वितीय राजकीय भाषा - उर्दू

राजकीय पशु--बैल

राजकीय पक्षी – गौरेया

राजकीय पुष्प – गेंद फूल

राजकीय वृक्ष - पीपल

राजकीय चिन्ह – बोधि वृक्ष

राजकीय मछली--मांगुर

राज्य का महापर्व -छठ


बिहार भौगोलिक परिचय

अक्षांशीय विस्तार - 24° 20' 50"से 27°31' 15” उत्तरी अक्षांश

देशांतरीय विस्तार – 83° 19' 50"से 88° 17' 40" पूर्वी देशांतर

आकृति - आयताकार

क्षेत्रफल - 94163 वर्ग किलो मी.

लंबाई (उत्तर से दक्षिण )-345 किमी

चौड़ाई -(पूर्व से पश्चिम)-483 किमी

औसत ऊंचाई - समुद्र तट से 52 .73 मी.

सीमाएं- उत्तर में नेपाल(7 जिलों से सीमा बनाती है),दक्षिण में झारखण्ड(9 जिलों से), पूर्व में पश्चिम बंगाल

(3 जिलों से),पश्चिम में उत्तर प्रदेश (7 जिलों से)


Bihar Current Affairs in Hindi PDF Download

बिहार राजनितिक परिचय

राज्यपाल रामनाथ कोविंद

मुख्यमंत्री - नितीश कुमार

मुख्य न्यायाधीश – न्यायमूर्ति इक़बाल अहमद अंसारी

विधान सभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी

विधान परिषद् के सभापति - अवधेश नारायण सिंह

बिहार के महाधिवक्ता - रामबालक महतो

राज्य मुख्य चुनाव आयुक्त - अजय नायक

मुख्य सुचना आयुक्त – अशोक कुमार सिन्हा

बिहार लोकायुक्त -सी

एम प्रसाद

बिहार लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष – के सी साहा

बिहार राज्य मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष-बिलाल नाजकी

बिहार राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष - मंजू कुमारी गुड्डू कुमारी

बिहार राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग की अध्यक्ष-धर्मपाल सिंह

लोक सभा सदस्यों की संख्या-40

लोक सभा में अनुसूचित जाति की आरक्षित सीटें -6 (गोपाल गंज ,हाजीपुर ,समस्तीपुर ,जमुई ,गया तथा

सासाराम)

राज्य सभा में सदस्यों की संख्या-16

विधान सभा में सदस्यों की संख्या - 243

विधानसभा में अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित सीटें- 38

विधानसभा में अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित सीटें- 02 (कटोरियां एवं मनिहारी)

विधानपरिषद सदस्यों की संख्या-75


16 वीं बिहार विधानसभा चुनाव - 2015 -अक्टूबर,नवम्बर 2015 में

चुनाव के चरण-5

विधानसभा में कुल सीटों की संख्या - 243

मतदान का प्रतिशत-56.8%

राष्ट्रीय जनता दल- 80

जनता दल यूनाइटेड -71

भाजपा-53

कांग्रेस-27

लोक जनशक्ति पार्टी-2

हम-1

रालोसपा -2

1

माले-3

निर्दलीय -4

बिहार विधानसभा के लिए निर्वाचित महिलाओं की संख्या - 19

बिहार में प्रमंडलों की संख्या- 9 पटना, मगध, सारण,तिरहुत , कोसी, दरभंगा ,पुर्णिया,भागलपुर तथा मुंगेर


बिहार में जिलों की संख्या-38

अनुमंडलों की संख्या - 101

प्रखंडों की संख्या-534

राजस्व ग्रामों की कुल संख्या-45098

शहरों की संख्या-139

नगर समूह की संख्या -14

एक लाख से अधिक जनसँख्या वाले नगरों की संख्या-19

महानगर-1 पटना

नगर निगम की कुल संख्या- 11

नगर पंचायतों की कुल संख्या-86

नगर परिषदों की कुल संख्या-42

.

बिहार की जनसंख्या

कुल जनसंख्या-10,40,99,452

पुरुष जनसंख्या-5,42,78,157

महिला जनसंख्या-4,98,21,295

कुल जनसंख्यां में पुरुषों का हिस्सा - 52.14%

कुल जनसंख्या में महिलाओं का हिस्सा- 47.86%

ग्रामीण जनसंख्या-7,43,16,709
शहरी जनसंख्या-86,81,800
कुल जनसंख्या में ग्रामीण जनसंख्या का प्रतिशत – 88.7%
कुल जनसंख्या में शहरी जनसंख्या का प्रतिशत-11.29%
0-6 आयवर्ग की कुल जनसंख्या-98,87,239
अनुसूचित जातियों की जनसंख्या- 1,30,48,608
अनुसूचित जातियों की जनसंख्या का प्रतिशत 15.72%
सर्वाधिक अनुसूचित जाति की आबादी वाला जिला - गया
न्यूनतम अनुसूचित जाति की आबादी वाला जिला-किशनगंज
अनुसूचित जनजातियों की जनसंख्या - 7,58,351
अनुसूचित जनजातियों की जनसंख्या का प्रतिशत -1.3%
सर्वाधिक अनुसूचित जनजाति की आवादी वाला जिला -कटिहार
न्यूनतम अनुसूचित जनजाति की आवादी वाला जिला शिवहर
लिंगानुपात- 918/1000
देश की कुल जनसंख्या में बिहार की जनसंख्या का प्रतिशत जनसंख्या की दृष्टि से देश में बिहार का स्थान - तीसरा
जनसंख्या की दृष्टि से सर्वाधिक बड़ा जिला – पटना
जनसंख्या की दृष्टि से सर्वाधिक छोटा जिला -शेखपुरा
.
जनसंख्या वृद्धि दर
2001 से 2011 के दशक जनसंख्या वृद्धि दर - 25.42%
2001 से 2011 के दशक में सर्वाधिक जनसंख्या वृद्धि दर वाला जिला – मधेपुरा
2001 से 2011 के दशक में न्यूनतम जनसंख्या वृद्धि दर वाला जिला – गोपालगंज

Bihar Current Affairs in Hindi PDF Download


बिहार जन्म व मृत्यु दर

जन्मदर - 30.9 प्रति हजार
मृत्यु दर-7.9 प्रति हजार
शिशु मृत्यु दर - 61 प्रति हजार जीवित जन्म
मातृत्व मृत्यु दर-331 प्रति एक लाख जीवित जन्म पर
जनसंख्या घनत्व
.
जनसंख्या घनत्व-1106 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर
जनसंख्या घनत्व की दृष्टि से बिहार का भारतीय राज्यों में स्थान- प्रथम
सर्वाधिक जनसंख्या घनत्व वाला जिला - शिवहर(1880)
न्यूनतम जनसंख्या घनत्व वाला जिला – कैमूर(488)


बिहार की लिंगानुपात
लिंगानुपात – 918/1000
बच्चों का लिंगानुपात- 935/1000
लिंगानुपात की दृष्टि से भारत के राज्यों में क्रम-24वां
सर्वाधिक लिंगानुपात वाला जिला गोपालगंज

न्यूनतम लिंगानुपात वाला जिला – मुंगेर


बिहार की साक्षरता

बिहार की कुल साक्षरता दर - 61.80 %

पुरुष साक्षरता दर - 71.20 %

महिला साक्षरता दर -51.5 %

साक्षरता की दृष्टि से भारत के राज्यों में क्रम – 28 वां

सर्वाधिक साक्षरता दर बल जिला - रोहतास

न्यूनतम साक्षरता दर वाला जिला – पूर्णिया

सर्वाधिक पुरुष साक्षरता दर वाला जिला - रोहतास

सर्वाधिक महिला साक्षरता दर वाला जिला – रोहतास

न्यूनतम पुरुष साक्षरता दर वाला जिला – पूर्णिया

न्यूनतम महिला साक्षरता वाला जिला-सहरसा

.

बिहार की धार्मिक जनगणना

हिंदुओं की जनसंख्या 6,90,76,919 (83.2%)

मुस्लिम जनसंख्या - 1,37,22,048 (16.5 %)

ईसाई जनसंख्या - 53,137(0.06%)

सिख जनसंख्या- 20,780 (0.03%)

बौद्ध जनसंख्या - 18,818 (0.02%)

जैन जनसंख्या-16,085 (0.02%)

हिंदुओं में लिंगानुपात – 915 महिलाएं प्रति 1000 पुरुष

मुस्लिमों में लिंगानुपात – 943 महिलाएं प्रति 1000 पुरुष

ईसाइयों में लिंगानुपात – 974 महिलाएं प्रति 1000 पुरुष

सिक्खों में लिंगानुपात – 879 महिलाएं प्रति 1000 पुरुष

बौद्धों में लिंगानुपात - 841 महिलाएं प्रति 1000 पुरुष

जैनो में लिंगानुपात – 904 महिलाएं प्रति 1000 पुरुष

हिंदुओं में साक्षरता दर - 47.9 %

मुस्लिमों में साक्षरता दर - 42 %

ईसाइयों में साक्षरता दर - 71.1 %

सिखों में में साक्षरता दर - 79.8%

बौद्धों में में साक्षरता दर -59 %

जैनों में साक्षरता दर -93.3 %

बिहार के प्रमुख खनिज

बिहार में कुछ ही खनिजो का उत्पादन होता था कुछ समय पहले तक बिहार खनिज सम्पदा की दृष्टि से अग्रणी राज्य था लेकिन सन 2000 में विभाजन के बाद खनिज सम्पदा वाला अधिकांस हिस्सा झारखण्ड के पास चला गया|

वर्तमान में बिहार में पाए जाने वाले प्रमुख खनिज चीनी मिट्टी, पायराइट, चूना पत्थर,   स्लेट, सोना, शोरा तथा सजावटी ग्रेनाइट, क्वार्टज आदि है


बिहार में पाए जाने वाले प्रमुख खनिज व उनके प्राप्ति स्थल 

खनिज     –   प्राप्ति स्थल

मैगनीज – मुंगेर और  गया 

कोयला – औरंगाबाद

चूना पत्थर – रोहतास  व कैमूर का पठार 

गंधक – रोहतास का अंजोर

सीलीमेंनाइट – गया जिला

शीशा – भागलपुर

बॉक्साइट – मुंगेर (खड़कपुर की पहाड़ियों, खपरा, मेरा, देंता, सारंग) व रोहतास जिले

बेरिलियम – गया एवं नवादा  क्षेत्र

टिन –  गया, देवराज व चकखंद

चीनी मिट्टी – भागलपुर (कसरी, पत्थर घाटा, सुमुखिया, झरना, हरंकारी) ,बांका (कटोरिया) एवं मुंगेर

डोलोमाइट – रोहतास (बंजारी)

लिथियम – गया

कांच पत्थर -भागलपुर जिला

पेट्रोलियम –  बिहार के पूर्णिया, कटिहार तथा निकटवर्ती क्षेत्र में भी संभावित भंडार है

पाइराइट  – रोहतास,  सोन नदी की घाटी, बंजारी तथा कोरियाई क्षेत्र 

क्वार्टज  –   जमुई


बिहार वनों से सम्बंधित कुछ महत्वपूर्ण तथ्य 

राज्य कुल वन क्षेत्र – 6,764 वर्ग किमी 

ज्य के क्षेत्रफल में वनों का प्रतिशत – 7.1 %

सबसे अधिक वन क्षेत्र वाला जिला – पश्चिमी चंपारण 

सबसे कम वन क्षेत्र वाला जिला – स्योहर 

सबसे अधिक वन प्रतिशत वाला जिला – कैमूर 

सबसे कम  वन प्रतिशत वाला जिला – शेखपुरा


बिहार में कुल 6,764 वर्ग किमी भू भाग पर वन है जो राज्य के कुल क्षेत्रफल का 7.1 प्रतिशत है  बिहार में वन मुख्यतः चंपारण, रोहतास, कैमूर, औरंगाबाद, गया, जहानाबाद , नालंदा, नवादा, बांका, जमुई और मुंगेर आदि जिलो में पाए जाते है

बिहार में मुख्यतः आद्र पर्णपाती व शुष्क पर्णपाती वन पाए जाते है बिहार में वनों के वर्गीकरण को निम्न चार्ट की मदद से समझा जा सकता है|

 

बिहार का इतिहास

बिहार महात्मा बुद्ध तथा 24 जैन तीर्थकरों की कर्मभूमि रहा है । बिहार पर मौर्य, गुप्त, कुषाण, शुंग , कण्व इत्यादि शासकों ने शासन किया।

उदयन ने पाटलिपुत्र (आधुनिक पटना) नगर की स्थापना की थी । बिहार पर राजधानी सबसे प्रथम बार विजय पाने वाला मुस्लिम शासक मोहम्मद-बिन-बख्तियार खिलजी था ।

खिलजी वंश के पश्चात यहाँ तुगलक तथा मुगल वंश का शासन रहा।

Bihar Current Affairs in Hindi PDF Download

बिहार की शिक्षा

यद्यपि 20वीं सदी के उत्तरार्ध में बिहार की शिक्षा दर लगभग तिगुनी होकर राज्य की जनसंख्या के क़रीब 48 प्रतिशत तक पहुंच गई है, फिर भी यह देश के अन्य राज्यों की शिक्षा दर की तुलना में काफ़ी नीचे है। महिला साक्षरता दर (33.57 प्रतिशत) की तुलना में पुरुष साक्षरता दर (60.32 प्रतिशत) लगभग दुगनी है। 14 वर्ष तक के सभी बच्चों को शिक्षित करना राज्य का प्रधान लक्ष्य है। इनमें से लगभग 90 प्रतिशत बच्चे प्राथमिक स्कूलों में दाख़िला लेने के योग्य हैं, लेकिन इनमें से बहुत कम ही माध्यमिक स्तर तक पहुंच पाते हैं, क्योंकि इनकी आर्थिक आवश्यकताएं इन्हें काम करने के लिए बाध्य करती हैं। व्यावसायिक और तकनीकी शिक्षण संस्थाएं सरकारी विभागों द्वारा सहायता प्राप्त हैं। बिहार के उच्च शिक्षण संस्थानों में पटना स्थित प्राचीन व महत्त्वपूर्ण पटना विश्वविद्यालय; मुज़फ़्फ़रपुर में बी. आर. ए. बिहार विश्वविद्यालय और भागलपुर स्थित 'तिलका मांझी भालपुर विश्वविद्यालय' शामिल हैं। बाद के दोनों शिक्षण संस्थान विभिन्न विषयों में स्नातक स्तर के पाठ्यक्रम संचालित करते हैं और इनसे अनेक महाविद्यालय संबद्ध हैं। द पटना स्कूल ऑफ़ आर्ट्स ऐंड क्राफ़्ट्स में विशिष्ट विषयों के शिक्षा दी जाती है।


प्राचीन काल में बिहार शिक्षा का प्रमुख केंद्र था। शिक्षा का प्रमुख केन्द्र नालन्दा विश्‍वविद्यालय , विक्रमशिला विश्‍वविद्यालय, वर्जासन विश्‍वविद्यालय एवं ओदन्तपुरी विश्‍वविद्यालय थे।

बिहार में शिक्षा मध्यकाल से प्रारम्भ हुई थी। इस समय अधिकांशत: मुस्लिम ही उच्च शिक्षा ग्रहण करते थे। शिक्षा का माध्यम फारसी था किंतु कहीं संस्कृत के भी शिक्षण संस्थान थे।

अजीमाबाद (पटना) बिहार में फारसी का सबसे बड़ा केन्द्र था। बिहार के प्रसिद्ध विद्वानों में क़ाज़ी ग़ुलाम मुज़फ्फर थे।

आधुनिक शिक्षा का प्रारम्भ 1835 ई. में लॉर्ड विलियम बैंटिक द्वारा किया गया। शिक्षा का माध्यम संस्कृत-फारसी के साथ अंग्रेज़ी भी था लेकिन अंग्रेज़ी भाषा की सर्व प्रमुखता थी।

पूर्णिया के बिहार शरीफ़ तथा छपरा में एक अंग्रेज़ी शिक्षा केन्द्र की स्थापना की गई।


बिहार के प्रमुख किले

रोहतासगढ़ किला 

रोहतासगढ़ किला बिहार के रोहतास जिले में स्थित एक प्राचीन किला है ऐसी मान्यता है की  इस किले का निर्माण त्रेता युग में अयोध्या के सूर्यवंशी राजा त्रिशंकु के पौत्र व राजा हरिश्चंद्र के पुत्र रोहिताश्व ने कराया था इस किले की परिधि 45 किमी तक  फैली हुई है। इसमें कुल 83 दरवाजे हैं

सासाराम किला 

सासाराम शहर बिहार के रोहतास जिले में स्थित है और रोहतास जिले का मुख्यालय भी है और यहीं शेर शाह सूरी द्वारा निर्मित एक किला भी स्थित है 

पलामू किला 

पलामू भारत के झारखण्ड राज्य के उत्तर पश्चिम में झारखण्ड और बिहार के सीमा पर स्थित है यहाँ दो किले स्थित है जो जर्जर स्थिति में है जिन्हें   ‘पुराना किला’ और ‘नया किला’ कहा जाता है। ये दुर्ग चीरो राजवंश के राजाओं ने बनवाया था 

जलालगढ़ का किला 

जलालगढ का किला, बिहार राज्य के पूर्णिया जिला में जलालगढ़ में स्थित है इस किले को मुग़ल कालीन मन जाता है लेकिन इसके निर्माणकर्ता के बारे में कोई जानकारी नहीं है 

मुंगेर का किला 

मुंगेर भारत के बिहार राज्य में स्थित एक शहर एवं जिला है।  मुंगेर बंगाल के अंतिम नवाब मीरकासिम की राजधानी भी था। यहीं पर मीरकासिम ने गंगा नदी के किनारे एक भव्‍य किले का निर्माण कराया जो 1934 में आए भीषण भूकम्प से क्षतिग्रस्‍त हो गया था, लेकिन इसका अवशेष अभी भी शेष है 

हथुआ किला

हथुआ किला बिहार के गोपालगंज जिले में स्थित है


बिहार की प्रमुख नदियाँ 
गंगा नदी – गंगोत्री हिमनद (उत्तराखंड)
सोन नदी – अमरकण्टक (मध्य प्रदेश)
गंडक नदी – अन्नपूर्णा पर्वत (नेपाल)
कोसी नदी – गोसाई नाथ (नेपाल)
घाघरा (सरयू) नदी – मापचोचुंग हिमनद
कर्मनाशा नदी – कैमूर की पहाड़ी 
महानंदा नदी – मकलदिया राम पहाड़ी, दार्जिलिंग (पश्चिम बंगाल) 
बागमती नदी – महाभारत श्रेणि (नेपाल)
बूढ़ी गंडक नदी – सोमेश्वर पहाड़ी
फल्गु नदी – छोटा नागपुर का पठार
अजय नदी – बटपाड़ (जमुई

बिहार में नदियों के किनारे बसे प्रमुख शहर
बिहार में बहने वाली प्रमुख नदियों में गंगा, सोन, गंडक , कोसी , घागरा ,सरयू , महानंदा, बागमती, अजय, सकरी आदि प्रमुख है इन नदियीं के तट पर अनेक छोटे बड़े शहर स्थित है जिनमे से कुछ प्रमुख निम्नलिखित है 

शहर  –  नदी का नाम 
पटना – गंगा नदी 
बक्सर  – गंगा नदी 
मोकामा – गंगा नदी 
भागलपुर – गंगा नदी 
मुंगेर – गंगा नदी 
हाजीपुर – गंडक नदी 
सोनपुर – गंडक नदी 
मुजफ्फरपुर – गंडक नदी 
गया – फल्गु नदी 
Bihar Current Affairs in Hindi PDF Download

शिक्षण संस्थान का नाम  –  स्थापना वर्ष 
अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय (किशनगंज ) – 2013
आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय (पटना) – 2008
भूपेंद्र  मंडल विश्वविद्यालय (मधेपुरा) – 1992
बिहार कृषि विश्वविद्यालय (भागलपुर) – 2009
बिहार योग भारती (मुंगेर) – 1984
 चाणक्य राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय (पटना) – 2006
सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ़ साउथ बिहार (पटना) – 2006
ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय (दरभंगा) – 1972
कामेर सिंह संस्कृत विश्वविद्यालय (दरभंगा) – 1961 
बी.आर. अम्बेडकर विश्वविद्यालय (मुजफ्फरपुर) – 1952  
मगध विश्वविद्यालय (बोध गया) – 1962 
जयप्रकाश विश्वविद्यालय (छपरा) – 1990
भारतीय प्रौधोगिकी संस्थान (पटना) – 2008
महात्मा गाँधी केंद्रीय विश्वविद्यालय (मोतिहारी) – 2015
फ़ारसी विश्वविद्यालय (पटना) – 2004 
नालंदा विश्वविद्यालय (राजगीर) – 2014 
नालंदा मुक्त विश्वविद्यालय (पटना) – 1995
पटना विश्वविद्यालय (पटना) – 1917  
वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय (आरा) – 1994
पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय (पटना) – 2016
मुंगेर विश्वविद्यालय (मुंगेर) – 2016
पूर्णिया विश्वविद्यालय (पूर्णिया) – 2016
बिहार पशु विज्ञान विश्वविद्यालय (पटना) – 2016 
तिलक झाँसी विश्वविद्यालय (भागलपुर) – 1960 
राजेंद्र कृषि विश्वविद्यालय (पूसा) – 1970

बिहार के मुख्यमंत्रियों की सूची: 
बिहार के प्रथम मुख्य मंत्री श्री कृष्ण सिंह थे और वर्तमान में श्री नीतीश कुमार बिहार के मुख्य मंत्री है यहाँ हमने सामान्य ज्ञान के आधार पर बिहार के मुख्य मंत्रियो की सूचि उनके नाम, कार्यकाल वर्ष व् उनकी पार्टी दल के साथ तैयार की है!

बिहार कि अर्थव्यवस्था
बिहार की लगभग 75 प्रतिशत जनसंख्या कृषि कार्य में संलग्न है। 20वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में खनन व विनिर्माण में में उल्लेखनीय उपलब्धि के बाबजूद बिहार प्रति व्यक्ति आय के मामले में देश में सबसे आखिर में है और राज्य की लगभग आधी आबादी प्रशासनिक तौर पर गरीबी रेखा के नीचे है। झारखंड के गठन के साथ ही इसकी मुसीबतें बढ़ीं हैं और बिहार को खनिज संपदा के विशाल भंडार से वंचित होना पड़ा। निम्नतम प्रति व्यक्ति आय व अत्यधिक सघन जनसंख्या वाले बिहार की अर्थव्यवस्था पिछड़ती जा रही है।

बिहार की कृषि
बिहार की अर्थव्यवस्था कृषि पर आधारित है। बिहार का कुल भौगोलिक क्षेत्र लगभग 93.60 लाख हेक्‍टेयर है जिसमें से केवल 56.03 लाख हेक्‍टेयर पर ही खेती होती है। राज्‍य में लगभग 79.46 लाख हेक्‍टेयर भूमि कृषि योग्‍य है। विभिन्‍न साधनों द्वारा कुल 43.86 लाख हेक्‍टेयर भूमि पर ही सिंचाई सुविधाएं उपलब्‍ध हैं जबकि लगभग 33.51 लाख हेक्‍टेयर भूमि की सिंचाई होती है। बिहार की प्रमुख खाद्य फ़सलें हैं- धान, गेहूँ, मक्‍का और दालें। मुख्‍य नकदी फ़सलें हैं- गन्ना, आलू, तंबाकू, तिलहन, प्‍याज, मिर्च, पटसन। लगभग 6,764.14 वर्ग कि. मी. क्षेत्र में वन फैले हैं जो राज्‍य के कुल भौगोलिक क्षेत्र का लगभग 7.1 प्रतिशत हैं।

उद्योग
बिहार के मुख्‍य उद्योग हैं -
मुजफ्फरपुर और मोकामा में 'भारत वैगन लिमिटेड' का रेलवे वैगन संयंत्र।
बरौनी में भारतीय तेल निगम का तेलशोधक कारख़ाना है।
बरौनी का एच.पी.सी.एल. और अमझोर का पाइराइट्स फॉस्‍फेट एंड कैमिकल्‍स लिमिटेड (पी.पी.सी.एल.) राज्‍य के उर्वरक संयंत्र हैं।
सीवान, भागलपुर, पंडौल, मोकामा और गया में पांच बड़ी सूत कताई मिलें हैं।
उत्तर व दक्षिण बिहार में 13 चीनी मिलें हैं, जो निजी क्षेत्र की हैं तथा 15 चीनी मिलें सार्वजनिक क्षेत्र की हैं जिनकी कुल पेराई क्षमता 45,00 टी.पी.ड़ी. है।
इसके अलावा गोपालगंज, पश्चिमी चंपारन, भागलपुर और रीगा (सीतामढ़ी ज़िला) में शराब बनाने के कारखाने हैं।
पश्चिमी चंपारन, मुजफ्फरपुर और बरौनी में चमड़ा प्रसंस्‍करण के उद्योग है।
कटिहार और समस्‍तीपुर में तीन बड़े पटसन के कारखाने हैं।
हाजीपुर में दवाएं बनाने का कारख़ाना, औरंगाबाद और पटना में खाद्य प्रसंस्‍करण और वनस्‍पति बनाने के कारखाने हैं।
इसके अलावा बंजारी में कल्‍याणपुर सीमेंट लिमिटेड नामक सीमेंट कारखाने का बिहार के औद्योगिक नक्‍शे में महत्‍वपूर्ण स्‍थान है।
पटना का दृश्य

सिंचाई
बिहार में कुल सिंचाई क्षमता 28.63 लाख हेक्‍टेयर है। यह क्षमता बड़ी तथा मंझोली सिंचाई परियोजनाओं से जुटाई जाती है। यहाँ बड़ी और मध्‍यम सिंचाई परियोजनाओं का सृजन किया गया है और 48.97 लाख हेक्‍टेयर क्षेत्रफल की सिंचाई प्रमुख सिंचाई योजनाओं के माध्‍यम से की जाती है।

रबीक के क्यूब सॉल्वर को 20 चरणों में आपकी पहेली का हल मिलेगा आपको समाधान जानने की जरूरत नहीं है।

 Bihar Current Affairs in Hindi PDF Download

1 Comments

Post a Comment
Previous Post Next Post